Wednesday, April 10, 2024
HomeHindi Class 5Class 5 Hindi Chapter 18 Chunauti Himalaya ki Worksheet

Class 5 Hindi Chapter 18 Chunauti Himalaya ki Worksheet

NCERT Class 5 Hindi Chapter 18 Chunauti Himalaya ki is an adventurous story of Jawaharlal who challenged Himalayas and want to reach Amarnath.

Jawaharlal decides to go on a challenging trek in the Himalayas, even though his guide worries about the dangers. Despite not having proper gear, Jawaharlal and his companions begin their journey. It’s tough! The mountains are tall and cold, and the air is thin. Walking is difficult, and soon, everyone feels tired and breathless.

Suddenly, snow starts falling, making the path slippery and dangerous. Jawaharlal slipped and fell down, hanging between two peaks. His life was saved by his cousin and guide. Realizing the risk, Jawaharlal decides to turn back, even though he doesn’t want to.

This adventure reminds us that courage isn’t just about winning, but also about making smart choices to stay safe. The Himalayas may be beautiful, but they also challenge us to respect their power and understand our own limits.

Stay a step ahead in your class by practising at home with our Class 5 Hindi Chapter 18 Worksheet PDF. All you have to do is download it, and you’ll be well-prepared before everyone else!

Don’t forget to grab our Class 5 Hindi Chapter 18 Chunauti Himalaya ki solutions! They cover all the questions from the RimJhim text book.

हमारी चुनौती हिमालय की worksheet PDF, विषय विशेषज्ञों द्वारा तैयार की जाती है ताकि बच्चों को आसानी से अध्याय को समझने में मदद मिल सके।

घर पर अभ्यास करने के लिए विभिन्न प्रश्नों को कवर करने वाली हमारी मुफ्त प्रिंट करने योग्य कक्षा 5 हिंदी वर्कशीट डाउनलोड करें

Chunauti Himalaya ki Worksheet

Class 5 Hindi Chapter 18 Chunauti Himalaya ki Question Answer

Click to Join Us on WhatsApp Channel

Also Download:

NCERT Class 5 EVS Worksheets
NCERT Class 5 Maths Worksheets

चुनौती हिमालय की पाठ का सारांश

जवाहरलाल ने हिमालय में एक चुनौतीपूर्ण यात्रा पर जाने का फैसला किया, भले ही उनके गाइड को खतरों की चिंता थी। उचित गियर न होने के बावजूद, जवाहरलाल और उनके साथी अपनी यात्रा शुरू करते हैं।

यह कठिन है! पहाड़ ऊँचे और ठंडे हैं, और हवा पतली है। चलना मुश्किल है, और जल्द ही, हर कोई थका हुआ और सांस फूलने लगता है। अचानक बर्फ गिरने लगती है, जिससे रास्ता फिसलन भरा और खतरनाक हो जाता है। जवाहरलाल फिसलकर गिर पड़े और दो चोटियों के बीच लटक गये। उनकी जान उनके चचेरे भाई और गाइड ने बचाई। जोखिम को महसूस करते हुए, जवाहरलाल ने न चाहते हुए भी वापस लौटने का फैसला किया।

यह साहसिक कार्य हमें याद दिलाता है कि साहस का मतलब सिर्फ जीतना नहीं है, बल्कि सुरक्षित रहने के लिए स्मार्ट विकल्प चुनना भी है। हिमालय सुंदर हो सकता है, लेकिन वह हमें उनकी शक्ति का सम्मान करने और अपनी सीमाओं को समझने की चुनौती भी देता है।

Class 5 Hindi Chapter 18 Question Answer MCQ

(क) मातायन से अमरनाथ की गुफ़ा कितनी दुरी पर थी?
(i) 8 मील (ii) 3 मील (iii) 2 मील (iv) 5 मील

(ख) जवाहरलाल जोजीला पास से होकर किस इलाके की और चले आए थे?
(i) लद्दाखी (ii) कश्मीर (iii) पंजाबी (iv) तिब्बती

(ग) किसके अभाव में पहाड़ी रास्ते पर एक खालीपन महसूस हो रहा था?
(i) जानवर (ii) हरियाली (iii) पानी (iv) इंसान

(घ) किस पास से चलकर जवाहरलाल मातायन पहुँचे?
(i) रोतांग पास (ii) दिहंग पास (iii) जोजीला पास (iv) शिपकिला पास

(ङ) जवाहरलाल कहाँ गिर पड़े?
(i) कुँए में (ii) खाई में (iii) घाटी में (iv) मिट्टी

(च) जवाहरलालजी वास्तव में कहाँ घुमने निकले थे?
(i) दिल्ली (ii) मुंबई (iii) कश्मीर (iv) असम

(छ) किशन कौन था?
(i) गड़ेरिया (ii) लुहार (iii) मार्गदर्शक (iv) कुली

(ज) किशन ने अपना काम किसे सौप दिया?
(i) अपने भाई को (ii) अपने बेटे को (iii) अपनी बेटी को (iv) अपने पत्नी को

Chunauti Himalaya ki Extra Question Answer

(क) अमरनाथ की गुफा के पास क्या दिखाई दे रहा था?
उत्तर. अमरनाथ की गुफा के पास चारों तरफ बस पथरीली चट्टानें और सफेद बर्फ दिख रहे थे।

(ख) किशन उन्हें वापस लौटने के लिए क्यों कह रहा था?
उत्तर. किशन लौटने के लिए इसलिए कह रहा था क्योंकि उसे पता था की वापस कैंप में पहुँचते-पहुँचते दिन ढल जाएगा।

(ग) सफर के दौरान किस बारिश ने उन्हें परेशान किया?
उत्तर. सफर के दौरान बर्फीली मैदान के पास आई बारिश ने उन्हें परेशान किया।

(घ) जवाहरलाल को अमरनाथ का सफ़र अधूरा छोड़कर वापस क्यों आना पड़ा?
उत्तर. जवाहरलाल को अमरनाथ का सफर अधूरा छोड़कर वापस आना पड़ा क्योंकि आगे का रास्ता अनेकों गहरी और चौड़ी खाइयों से भरा पड़ा था। खाइयाँ पार करने का उचित सामान भी उनके पास नहीं था।

Avani Modh
Avani Modh
She is passionate about education and love to create easy to understand and useful learning material for kids. In her free time, she likes to read story books.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

RELATED ARTICLES